गुड फ्राइडे क्या है? - Good Friday Kya Hota Hai
good friday kya hota hai

गुड फ्राइडे की घटना की कहानी ईसाई धर्म से जुड़ी हुई है, इस दिन को शोक दिवस के रूप में मनाया जाता है, क्योकि ‘Good Friday’ के दिन शारीरिक यातना के बाद ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया दिया गया था. गुड फ्राइडे के दिन ईसाई धर्म के लोग चर्च जाते हैं और प्रभु यीशु को याद करते हैं और प्रार्थना करते हैं. लोग क्रिसमस खत्म होने के बाद ही गुड फ्राइडे की तैयारी में लग जाते हैं. यह ‘ऐश बुधवार’ से शुरू होता है और ‘गुड फ्राइडे’ पर समाप्त होता है, इसे ‘लेंट’ ‘Lent’ कहा जाता है. इस पेज पर गुड फ्राइडे क्या है और इसे कब और क्यों मनाया जाता है, बताया जा रहा है.

गुड फ्राइडे क्या है? – Good Friday Kya Hota Hai

Good Friday को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे के नाम से भी जाना जाता है. यह ईसा मसीह के सूली पर चढ़ने के कारण हुई मृत्यु की वजह से कलवारी में मनाया जाता है. यह एक तरह का शोक दिवस है इस दिन गिरजाघरों और घरों से साज-सज्जा की वस्तु को हटा दी जाती है या उन्हें कपड़े से ढक दिया जाता है.

गुड फ्राइडे के दिन को एक तरह से प्रार्थना और उपवास के रूप में मनाया जाता है, इसकी तैयारी चालीस दिन पहले से शुरू कर दी जाती है. इस दिन लोग शाकाहारी और सात्विक भोजन करते है. और दुसरे को भी अनुशंसा करते हैं. इस दिन यीशु के अंतिम सात वाक्यों की विशेष रूप से व्याख्या किया जाता हैं. और उनकी व्याख्यान क्षमा, मेल-मिलाप, सहायता और त्याग की ओर केंद्रित करती हैं.

Good Friday क्यों मनाया जाता है

कलवारी में यीशु को सूली पर चढ़ाए जाने और उनकी मृत्यु का स्मरणोत्सव के कारण good friday मनाया जाता है. यीशु जिन्हें हम ईसा मसीह के नाम से भी जानते है. उन्होंने जीवन भर अपने अनुयायियों को भाईचारे, एकता, मानवता और शांति का संदेश प्रदान किया हैं.

good friday kya hota hai
good friday kya hota hai

ऐसे उनकी लोकप्रियता दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही थी क्योकि यीशु लोगों में ईश्वर के प्रति आस्था की भावना जगाने का काम कर रहे थे. ऐसे मौजूदा धार्मिक नेताओं की लोकप्रियता में बहुत घटोरी हें. बात यह भी है कि, ईसा मसीह खुद को ईश्वर का पुत्र मानते थे. धर्मगुरुओं ने यीशु को परमेश्वर का पुत्र मनवाकर एक महान पाप करार दिया. तब वहां के शासक ने यीशु को सूली पर लटकाकर कई दंड देने का आदेश दिया. इन यातनाओं से यीशु मृत्यु को प्राप्त हो गयें.

इन्ही घटना के कारण , ईसाई धर्म के अनुयायी 40 दिनों तक शोक व्यक्त करते रहते हैं. यह घटना शुक्रवार को हुई थी. इसलिए इसे गुड फ्राइडे (Good friday) के नाम से जाना जाता है.

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार शुक्रवार के बाद रविवार के दिन ईसा मसीह पुन: जीवित होते हैं, इसी की खुशी में ईस्टर या ईस्टर संडे भी मनाया जाता है.

दोस्तों, आपको बता दे यह गुड फ्राइडे एक तरह का शोक दिवस है, इस दिन प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ाकर सजा दिया गया था. जिससे उनका जीवन समाप्त हो गया और इस दिन को ईसाई धर्म में शोक के रूप में मनाया जाता है.

गुड फ्राइडे कब मनाया जाता है (Good Friday Kab Manaya Jata hai)

गुड फ्राइडे शुक्रवार, 15 अप्रैल को मनाया जाता हैं, गुड फ्राइडे को Holy Friday, Black Friday or Great Friday भी कहा जाता है. इस दिन ईसा मसीह को सूली पर हाथो में किल ठोककर लटका कर मार दिया गया था.

निष्कर्ष

तो आपने जाना की गुड फ्राइडे एक शोक दिवस है इस दिन ईसा मसीह के मृत्यु हुई थी जिसके वजह ईसाई धर्म के लोग शोक व्यक्त करते है. यह प्रकिया 40 दिन पहले ही शुरू कर दिया जाता हैं. आशा है आपको ये जानकारी जरुर पसंद आया होगा. इसे आप अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और जानकारी के लिए hindisoftonic को फॉलो करें.

By Hindisoftonic

i am Vicky kumar.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

four × 1 =