उपन्यास सम्राट किसे कहा जाता है? Upanyas samrat kise kaha jata hai

Upanyas samrat kise kaha jata hai
Upanyas samrat kise kaha jata hai

हैलो मित्रों! hindisoftonic.com ब्लॉग में आपका स्वागत है। और आज के लेख में हम “upanyas Kahani Samrat Kise Kaha Jata Hai” के बारे में जानेंगे। वैसे इनका उल्लेख मातृभाषा हिंदी की कहानियों में मिलता है।

उपन्यास सम्राट किसे कहा जाता है? Upanyas samrat kise kaha jata hai

उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद को कहते है। प्रेमचंद महान भारतीय लेखकों में से एक हैं। और मुंशी प्रेमचंद को हिन्दी साहित्य का कहानीकार और उपन्यास सम्राट कहा जाता है। प्रेमचंद का हिन्दी साहित्य के क्षेत्र में सभी योगदान अतुलनीय है।

प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1880 को वाराणसी के लम्ही गांव में हुआ, और उन्होंने ने लगभग बारह उपन्यास, लगभग तीन सौ कहानियाँ, कई लेख और नाटक जैसे कलाकृतियों को लिखा है.

कहानी सम्राट किसे कहा जाता है?

Upanyas samrat kise kaha jata hai
Upanyas samrat kise kaha jata hai

कहानी को सम्राट प्रेमचंद कहा जाता है, क्योंकि उपन्यासों की लोकप्रियता के कारण प्रेमचंद को उपन्यास सम्राट कहा जाता है। उनके प्रमुख उपन्यासों में सेवा सदन, गोदान, गबन, कायाकल्प, रंगभूमि प्रेमाश्रय, कर्मभूमि आदि हैं।

People Also Ask

  • कहानी सम्राट किसको कहा जाता है – kahani samrat kisko kaha jata hai
  • कहानी का सम्राट किसे कहा जाता है – kahani ka samrat kise kaha jata hai
  • कहानी सम्राट को कहा जाता है – kahani samrat ko kaha jata hai
  • सम्राट कहानीकार किसे कहा जाता है – samrat kahanikar kise kaha jata hai
  • कहानी के सम्राट किसे कहा जाता है – kahani ke samrat kise kaha jata hai
  • सम्राट कहानीकार किसे कहता है यह हिंदुस्तान – samrat kahanikar kise kahata hai yah Hindustan
  • कहानी सम्राट किसे माना जाता है – kahani samrat kise mana jata hai
  • कहानी के सम्राट कौन है – kahani ke samrat kaun hai
  • कहानी सम्राट को जाना जाता है – kahani samrat ko jana jata hai

Read more

निष्कर्ष – दोस्तों आपको “कहानी सम्राट किसे कहा जाता है – Upanyas samrat kise kaha jata hai” का यह लेख कैसा लगा? हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। साथ ही आर्टिकल को शेयर जरूर करें।

About Hindisoftonic 325 Articles
i am Vicky kumar.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


1 × 4 =